बुधवार, 9 अगस्त 2017

पानी के बताशे

बाल कहानी
                        पानी के बताशे
       
                                                   पवित्रा अग्रवाल


      ट्यूशन पढ़ कर लौटते हुए शालिनी की नजर चाट के ठेले पर पड़ी। गोल गप्पे देख कर उस के मुंह में पानी भर आया।उसने अपनी सहेली से कहा -- "रोहिणी देख सामने की बंडी पर पानी के बताशे मिल रहे हैं ।''
  "तुम इन्हें पानी के बताशे बोलती हो, हम इन्हें गोल गप्पे कहते हैं।''
     "हाँ कुछ लोग पानी पुड़ी भी बोलते हैं पर यार है बड़े मजे की चीज।इन्हें देख कर तो मेरे मुंह में पानी   आ रहा है,चल खाते हैं।''
  "नहीं शालिनी मैं बाहर के गोल गप्पे कभी नहीं खाती ।मेरी मम्मी ने कभी खाने ही नहीं दिए। सब से   ज्यादा इंफैक्शन की जड़ हैं ये ।''
     "वो कैसे ?''
  "देख शालिनी आज कल पीने का पानी कितना गंदा आ रहा है।अपने घरों में एक्वागार्ड या इसी तरह की पानी साफ करने की कोई न कोई मशीन लगी है।... पर इनके पानी का कोई भरोसा नहीं है।''
 " हाँ सो तो है।''
 " देख जिन हाथों से ये रुपए पैसे लेते हैं, उन्ही हाथों से यह चाट बना रहे हैं...इन्ही से घड़े में हाथ डुबो कर बताशों में पानी भर भर कर लोगों कों खिलाते भी जा रहे हैं।इस तरह हाथ की सारी गंदगी उस   पानी में घुलती जाती है।''
  "हाँ रोहिणी बात तो तूने बिलकुल सच कही है पर यह रूपए पैसे वाली बात मेरी समझ में नहीं आई।''
 "ये रुपए पैसे सैंकड़ों लोगों के हाथ से गुजरते हैं।जैसे हम खाँसते या छींकते समय मुंह पर हाथ रखते  हैं, हाथ गंदे हो गए न,सफाई कर्मचारी कचरा उठा रहा है किसी ने रूपए दिए तो उन्हीं हाथों से ले कर उसने जेब में रख लिए ... कहने मतलब यह है कि  रूपए पैसे लेते देते समय हाथों की गंदगी रुपयों में लगती रहती है और रुपयों की यात्रा जारी रहती है । ''   
  "ओ हाँ रोहिणी रुपए पैसे तो वाकई गंदे होते हैं। यह गंदगी भी हाथों द्वारा पानी में घुल जाती होगी । छी, अब तो मैं बाहर पानी के बताशे कभी भी नहीं खाऊंगी।...पर ये मुझे बहुत पसंद हैं तुझे अच्छे नहीं  लगते ?'
     "अच्छे क्यों नहीं लगते शालिनी, मुझे भी बहुत पसंद हैं ।मैं खाती भी हूँ पर घर पर ।...आजकल तो बाजार में गोल गप्पों का पैकेट मिलता है,पापा वही ले आते हैं।मम्मी आलू ओर मटरा उबाल लेती हैं और पानी भी घर में ही बना लेती हैं ।इस तरह हम लोग तो अक्सर घर में खाते ही रहते हैं ।''
  "पर बाहर का पानी बहुत मजेदार होता है ,वैसा घर में नहीं बन पाता होगा ।''
  " "घर में भी अच्छा बन जाता है,मम्मी तो धनियां ,पोधीना जाने क्या क्या डाल कर बनाती हैं,सब मसालों  का खेल है। वैसे बाजार में पानी पुड़ी मसाले का पैकेट भी आता है।...पर सब से खास बात शालिनी  यह है कि स्वाद के चक्कर में हम स्वास्थ्य से खिलवाड़ तो नहीं कर सकते न ।''
  "बिलकुल ठीक कहा तूने रोहिणी ,स्वास्थ्य से खिलवाड़ का मतलब है ...डाक्टर्स के चक्कर लगाओ, दवाएं खाओ।... मतलब समय व धन दोनो की बरबादी।''
  "देख शालिनी सामने की दुकान पर गोल गप्पों का पैकेट मिल रहा है।चल लेते हैं साथ ही इसके मसाले का पैकेट भी ले लेंगे ।''
 "पर पानी कौन बनाएगा ?''
 "शालिनी,पहले मेरे घर चल मम्मी से पानी  बनवा लेंगे,तू भी देख लेना कैसे बनता है।..हमारी फ्रिज में हमेशा कुछ उबले आलू जरूर रहते हैं।...अब तू गोल गप्पे खा कर ही जाना और हाँ हमारे घर से अपनी मम्मी को फोन कर देना...वरना वह चिन्ता करेंगी।''
   "अरे मेरे मुंह में तो फिर पानी आने लगा '' दोनो हँसती हैं
      

मेरे ब्लोग्स---
http://laghu-katha.blogspot.com/                 
    http://Kahani-Pavitra.blogspot.com/



सोमवार, 10 जुलाई 2017

नया विश्वास

बाल कहानी 
                       नया विश्वास
                              
              


                                             पवित्रा अग्रवाल

   रजनी आठवीं कक्षा में पढ़ती थी। कक्षा में वह प्रथम तो कभी नहीं आई किन्तु हमेशा प्रथम दस में रहती थी। नृत्य, नाटक, डिवेट आदि में हमेशा भाग लेती थी और पुरस्कार भी पाती थी। नृत्य का प्रशिक्षण तो वह तीन-चार वर्ष की उम्र से ले रही थी। कत्थक नृत्य में वह प्रवीण हो चुकी थी। नृत्य के कई स्टेज प्रोग्राम दे चुकी थी। पढ़ने में उसकी रुचि  थी।  वह स्नातक की डिग्री तो लेना चाहती थी किन्तु नृत्य व अभिनय को अपना कैरियर बनाना चाहती थी। उसका बाल मन भविष्य के सपने देखने लगा था।
  एक दिन पैदल स्कूल जा रही थी । सड़क पार करते समय वह एक बस से टकरा गई। बस का पहिया उसके पैर पर से उतर गया था। घुटने से नीचे का एक पैर डॉक्टर को काटना पड़ा था।....इस दुर्घटना में उसकी टाँग ही नहीं गई बल्कि सब सपने भी टूट कर बिखर गए थे। माता-पिता के बहुत समझाने पर भी वह स्कूल नहीं जा रही थी। उसने अपने घुँघरू उठा कर खिड़की से बाहर फेंक दिये थे। दिन भर अपने कमरे में उदास सी बैठी रहती थी। स्वभाव से चिड़चिड़ी हो गई थी ।
 उन्हीं दिनों उसके शहर में फिल्मी सितारों का एक ग्रुप आया था जो नृत्य का स्टेज प्रोग्राम देने वाला था। माता-पिता जिद्द करके रजनी को भी उस प्रोग्राम में ले गए।
 एक नृत्यांगना को देख कर वह चहकी- "मम्मी ये तो सुधा चन्द्रन है। ये टी.वी. के बहुत से सीरियल्स में काम कर रही है।'
 पापा ने कहा, "तुम ने सही पहचाना, ये सुधा चन्द्रन ही है। तुम्हें इनका नृत्य कैसा लगा ?'
 "बहुत अच्छा लगा पापा' कह कर वह फिर उदास हो गई। उसे नृत्यांगना व अभिनेत्री बनने का अपना सपना फिर याद आ गया था। उसकी आँखें भर आई। उसके सपने मात्र स्वप्न बन कर ही रह गए थे जो अब कभी पूरे नहीं हो पाएँगे। वह अपाहिज की जिन्दगी जीते हुए यों ही एक दिन दुनिया से चली जाएगी।
 तभी उसे माँ का स्वर सुनाई दिया-- "रजनी क्या सुधा की तरह तुम नृत्य नहीं कर सकती ?'
 रजनी ने लाचारी से एक बार अपनी टाँग को देखा फिर कहा, "मम्मी आप जानती हैं मैं कभी नृत्य नहीं कर सकती फिर भी आप यह प्रश्न पूछ कर क्या मेरा मजाक उड़ा रही हैं ?'
 "कैसी बातें करती हो रजनी ... मैं माँ होकर तुम्हारा मजाक उड़ाऊँगी ? शायद तुम्हे पता नहीं कि इस नृत्यांगना सुधा की भी एक टाँग दुर्घटना में कट गई थी। यह नकली पैर से नृत्य कर रही है यदि यह नृत्य व अभिनय कर सकती है तो तुम क्यों नहीं कर सकती ?'
     ये आप क्या कह रही है माँ, मुझे विश्वास नहीं होता। बचपन में मैंने एक फिल्म देखी थी उसमें फिल्म की हीरोइन ने नकली पैर से नृत्य किया था....लेकिन वह तो फिल्मों की बातें है।.....वास्तविक जीवन में ये सब कहाँ हो पाता है।"
 "अरे उसकी हीरोइन यही सुधा तो थी। उस फिल्म का नाम था " नाचे मयूरी'...वह फिल्म सुधा के वास्तविक जीवन पर ही बनी थी।....'
 "सच माँ... मुझे ये नहीं मालूम था। ये फिल्म मुझे फिर से दिखाना।...पापा मैं सुधा चन्द्रन से मिलना चाहती हूँ।'
     "ठीक है बेटा मैं उनसे बात करके तुझे मिलवाने की व्यवस्था करता हूँ।'
 प्रोग्राम के बाद में रजनी सुधा के साथ थी।
 सुधा ने संक्षेप में रजनी को अपनी आत्मकथा सुनाई कि किस  तरह   वह भी निराश हो गई थी। उसके माता-पिता ने जयपुर ले जाकर  नकली पैर लगवाया था। धीरे-धीरे डाँस की प्रैक्टिस प्रारंभ की।...इस बीच कई बार निराशाओं ने घेरा। अंत में मैं ने अपंगता पर विजय पा ली है यह तो तुमने देख ही लिया है।...रजनी तुम भी निराश मत हो, हिम्मत से काम लो। इच्छा शक्ति को दृढ़ करो। हीनता की भावना को अपने पास भी मत फटकने दो। अपना एक लक्ष्य निर्धारित करो फिर उस दिशा में प्रयास प्रारंभ कर दो सफलता जरूर मिलेगी।'
  " आपसे मिलकर मुझ में एक नए विश्वास ने जन्म लिया है। अब मैं जीवन से उतनी निराश नहीं हूँ।'
 रजनी ने पुन: स्कूल जाने का निर्णय कर लिया। जल्दी ही वह पापा-मम्मी के साथ कृत्रिम पैर लगवाने जयपुर जाएगी। उसने निश्चय कर लिया है कि वह भी जीवन में कुछ पाकर  रहेगी

  email -- agarwalpavitra78@gmail.com 

मेरे ब्लोग्स

गुरुवार, 8 जून 2017

लगाम जरुरी



बाल कहानी                      
                    लगाम  जरूरी

                                                         पवित्रा अग्रवाल

     कालेज में कक्षाएं शुरू हो चुकी थीं। अपने प्रिय मित्र संयम को न देख कर प्राण और हीमेश को कुछ चिन्ता होने लगी ।
  प्राण ने कहा -- "परीक्षाओ के दिन हैं ,इन दिनों तो सब बच्चों पर तैयारी का भूत सवार रहता है पर संयम क्यों नहीं आया ।...किसी से पता करना होगा ।'
 "संयम राहुल के घर के पास  ही रहता है। यह क्लास समाप्त होने पर राहुल के पास चल कर पूछते हैं।'
      " हाँ याद आया ,दोनो एक ही अपार्टमेंन्ट में रहते हैं , शायद उसको कुछ जानकारी हो ।'
शिक्षक के जाते ही प्राण और हीमेश कक्षा से बाहर आए तो राहुल सामने ही खड़ा मिल गया।
 "राहुल आज संयम कालेज क्यों नहीं आया ?'
   "तुम्हें नहीं पता ?...  संयम के बहुत चोट आई है, इस समय वह अस्पताल में है।'
 "उसे चोट कैसे लगी ,कहीं गिर गया था क्या ?'
 "अरे नहीं, वह रात को अपने किसी दोस्त के यहाँ से बाइक पर लौट रहा था, सामने से आती किसी कार से टक्कर  हो गई थी, तो वह गिर पड़ा... सब से अधिक चोट सिर में लगी है...अभी वह बेहोश है और उसकी हालत चिन्ताजनक है।'
 "बाइक पर वह अकेला था ? '
 "नहीं साथ में उसका कजिन भी था ।'
 "उसको चोट नहीं आई ?'
 "वह बच गया , पर उसके हाथ की  हड्डी टूटी है ।'
 "निश्चित रूप से उसने हैलमेट नहीं लगा रखा होगा ।'
 "हाँ तुम्हारा अनुमान बिलकुल सही है ....डाक्टर्स भी यही कह रहे थे कि यदि उसने हैलमेट लगा रखा होता तो वह सिर की चोट से बच सकता था। पुलिस भी आ गई थी...संयम के पास लाइसेंन्स भी नहीं था।'
 "हमारे बराबर का ही तो है, इस उम्र में लाइसेंन्स बन ही नहीं सकता। उसके बाइक लेने के बाद मैं ने भी घर में जिद्द की थी कि मुझे भी बाइक दिला दो...पर मम्मी पापा ने सख्ती से मना कर दिया ।...बोले अभी तुम्हें अठारह साल का होने में एक वर्ष है, उस से पहले तुम्हें न तो लाइसेन्स मिलेगा और ना बाइक ।'
...मैं ने  उन्हें बताया कि हमारे साथ के कई लड़के बाइक पर आते हैं और उनके पास लाइसेन्स भी है।'
   पापा ने कहा - "उन लोगों ने उम्र गलत बता कर लाइसेंन्स ले लिया होगा...जो कि सही नहीं है।पापा बड़बड़ाए थे कि पता नहीं कैसे माँ बाप हैं जो बच्चों की गलत जिद्द को पूरा करने के लिए इस तरह झूठ का सहारा लेते हैं...
  मम्मी ने भी पापा की बात को सही ठहराते हुए कहा था - " बच्चों को झूठ और बेइमानी का पाठ तो वही पढ़ा रहे हैं।'
 "हाँ तुम्हारे मम्मी पापा ने ठीक कहा था।...मैं तो अठारह का हो चुका हूँ ...मेरे पास लाइसेंन्स भी है और घर पर बाइक भी।... फिर भी मुझे कालेज बाइक से आने की छूट नहीं है ।कभी बाइक से जाता भी हूँ तो हैलमेंट लगाने की शर्त पर ही बाइक दी जाती है...साथ ही चेतावनी भी कि किसी दिन तुम को बिना हैलमेट के बाइक चलाते देख लिया तो उसके बाद तुम्हें बाइक नहीं दी जाएगी।'
"हाँ राहुल हमें इस तरह का अनुशासन बुरा तो लगता है पर वह हमारे भले के लिए ही ऐसा करते हैं।'
 राहुल ने पुन: कहा -"सुना है कि कार चलाने बाला बच्चा भी कम उम्र का था।....लोगों ने कार का नंबर नोट कर लिया है।...एक दो दिन में पकड़ कर उस पर भी कार्य वाही होगी।'
  "ऐसे लोगों के साथ ट्रेफिक पुलिस वालों को भी सख्ती बरतनी चाहिए ।'
 " हाँ यार लगाम तो लगानी चाहिए । ...देख वो हमारी मैडम क्लास लेने आ रही हैं,हम चलते हैं ...शाम को संयम को देखने अस्पताल चलेंगे ।'
    email        agarwalpavitra78@gmail.com--
-पवित्रा अग्रवाल
 

गुरुवार, 18 मई 2017

स्वाद में क्या रखा है


  बाल कहानी  

                  स्वाद में क्या रखा है
                                                  
                                                      पवित्रा अग्रवाल

    ध्रुव को  घर से बाहर जाता देख कर माँ ने उसे रोकते हुए पूछा--
 "बेटा ध्रुव तुम कहीं बाहर जा रहे हो ?'
 "हाँ माँ अपने दोस्त कपिल के पास जा रहा हूँ....आपको कुछ काम था ?'
 "तुझे तो मालुम है आज पापा के कुछ दोस्त डिनर पर आ रहे हैं।खाना बनाने के लिए मिसरानी भी आ गई है।उसे कुछ सामान चाहिए था।तू बाजार से ला देगा ?'
 "क्यों नहीं माँ ...आप लिस्ट बना कर दे दीजिए मैं अभी साइकिल पर जा कर ला देता हूँ ।'
 "लिस्ट तो मैं ने बना दी है। अभी ला कर देती हूँ ।'
 "कौन कौन सी सब्जियाँ बनवा रही हो माँ ?'
 "छोले,मटर पनीर,दम आलू बनवा रही हूँ।'
 "और क्या क्या बनवा रही हो ?'
 "वेजीटेबिल पुलाव ,रायता और नान ।'
 "मिठाई में क्या रहेगा ?'
 "रस मलाई और गुलाब जामुन मैं ने इस लिस्ट में लिख दी है वह तुम ले आना ।'
 "मम्मी इस लिस्ट में अजीमो मोटो भी लाने को लिखा है।...अजीमो मोटो क्यों ?'
 "पता नहीं ये क्या होता है।...मैं ने तो कभी डाला नहीं पर मिसरानी कह रही थी इस से सब्जी का स्वाद बहुत बढ़ जाता है।'
 "माँ आप जो खाना बनाती हो क्या वह कम स्वादिष्ट होता है ?..पर स्वाद बढ़ाने के लिए इस तरह के रसायन डालना अच्छी बात नहीं है।'
 "क्या इस से कुछ नुकसान होता है ?'
 "माँ यह एक तरह का रसायन है ।इसका साइन्टीफिक नाम सोडियम मोनो ग्लूकोनेट है।अक्सर होटलों आदि में स्वाद बढ़ाने के लिए इसे डाला जाता है । स्वास्थ्य के लिए बहुत हानिकारक होता है।कहते हैं इसका असर सीधे दिमाग पर होता है ।माँ मिसरानी से मना करदो कि हमें खाने में अजीमोंमोटो नहीं डालना है।ऐसा स्वाद किस काम का जो बीमारियों को दावत दे।'
 "तू बिलकुल ठीक कह रहा है इसे मत लाना ।पर तुम यह सब कैसे जानते हो...क्या स्कूल  में यह भी पढ़ाया जाता है ?'
 "आप को तो पता है माँ मुझे हैल्थ संबंधी विषयों में बहुत इन्ट्रेस्ट है और पत्र .पत्रिकाएं पढ़ने का शौक भी है और आज कल पत्र पत्रिकाओं में सब आता है।..माँ आप भी समय निकाल कर पत्रिकाए पढ़ा करो ।..आप कहें तो मैं आपके लिए हिन्दी की पत्रिकाएं ला दिया करूँगा ।'
 "हाँ बेटा ला देना मैं भी अब से पढ़ने की
आदत डालूँगी ।'
          
    मेरे ब्लोग्स --    

--
http://bal-kishore.blogspot.com/

सोमवार, 24 अप्रैल 2017

ठंडा ठंडा टेस्टी टेस्टी

बाल कहानी
                   ठंडा ठंडा टेस्टी टेस्टी
                                                                    पवित्रा अग्रवाल 

       श्लोक स्कूल से लौट कर गले पर हाथ रखते हुए बोला – ‘माँ गले में बहुत दर्द हो रहा है ,कुछ निगलने में भी दर्द है ’
         ‘श्लोक सुबह तक तो तुम बिलकुल ठीक थे...अचानक गले में दर्द कैसे होने लगा ?बाहर कुछ खाया पिया था क्या ?’
    ‘मम्मी खाया तो कुछ नहीं था पर इंटरवल में बाटल का पानी ख़त्म हो गया था तो स्कूल से लौटते समय बंडी पर गन्ने का रस पिया था ...ठंडा ठंडा बहुत स्वादिष्ट था .उसमे बर्फ ,नीबू का रस और मसाला भी पड़ा था .मम्मी सच में इतना टेस्टी था कि मैं एक गिलास की जगह दो गिलास पी गया .’
       अपनी धुन में श्लोक इतना उत्साहित होकर बोले जा रहा था ...वह भूल गया था कि अभी उसने माँ से गले के दर्द की शिकायत की है .जब उसका ध्यान सामने
खड़ी उसे घूरती माँ पर गया तो वह अचकचा कर चुप हो गया .
     ‘हाँ तो अब उस टेस्टी टेस्टी गन्ने के रस पीने का मजा भी लूटो .तुम्हे पता है न जब भी तुम यह रस पीते हो तो बीमार हो जाते हो और फिर एंटीबाइटिक्स से ही ठीक होते हो ’
    ‘सोरी मम्मी मैं भूल गया था ...सर में भी बहुत दर्द है.. .कहीं बुखार तो नहीं है?’
    माँ ने उसे छूकर देखा-- ‘अरे तुझे तो बहुत तेज बुखार है ,परीक्षा निकट है और पापा भी टूर पर गए हुए हैं.पहले बुखार कम करने के लिए क्रोसिन की गोली खाओ फिर डॉक्टर के पास चलते हैं ’
      तभी क्रिकेट खेलने के लिए बुलाने उसके दोस्त आगये – ‘आंटी डॉक्टर के पास कौन जा रहा है ?’
     ‘श्लोक के गले में दर्द है और बुखार भी तेज है ...स्कूल से बाहर वाली बंडी से गन्ने का रस पीकर आया है  ,लगता है इन्फेक्शन हो गया है ’
      पंकज ने कहा –‘ आंटी मैं तो रोज पीता हूँ ,मुझे तो कुछ नहीं होता .’
      सुबीर बोला – ‘मैंने एक बार पिया था तो लूज मोशन हो गए थे तब घर पर बहुत डांट पड़ी थी .उसके बाद फिर कभी नहीं पिया ’
     ‘बेटा हरेक के शरीर की प्रतिरोधक क्षमता अलग अलग होती है.श्लोक को आइसक्रीम ,ठन्डे जूस बिलकुल सूट नहीं करते .इनके सेवन से सबसे पहले इसका गला ख़राब होता है फिर ठीक होने में बहुत दिन लग जाते हैं .इसके पीने से भले ही तुम्हे कुछ नहीं होता पर यह तो तुमको भी मालूम है कि गन्ने का रस कितना अनहाइजिनिक होता है .’
‘वह कैसे आंटी ?’
‘गन्ने सड़क के किनारे एसे ही रखे रहते हैं और बंडी वाले रस निकालने के लिए उन्हें उठा उठा कर मशीन में डालते जाते हैं और मशीन में मोड़ मोड़ कर तब तक डालते रहते हैं जब तक उसका पूरा रस न निकल आये .अब गन्ने में कुछ गन्दा चिपका होगा तो वह रस में ही तो मिलेगा न...मैं ठीक कह रही हूँ हैं न ?’
‘आंटी आप बिलकुल ठीक कह रही हैं पर वह गन्नों को धो कर रखते हैं ’
‘बेटा गन्नों पर पानी डालना या उन्हें पानी में से डुबो कर निकलना धोना तो नहीं होता ?...देखो खाना खाने के बाद प्लेट को पानी में से डुबो कर निकालने से वह साफ तो नहीं होती... खाना लगा रह जाता है .साफ करने के लिए उसे रगड़ कर मांजना फिर धोना पड़ता है .पर गन्ने इस तरह से कहाँ साफ हो पाते हैं... गन्ने के रस पर मखियाँ भी कितनी भिनभिनाती रहती हैं .’
‘हाँ आंटी बात तो आप की सही है .
‘एक बात और बेटा वह जो बर्फ स्तेमाल करते हैं वह भी अशुद्ध पानी की हो सकती है .इनके पास पानी की कमी होती है अतः गिलास भी साफ तरह से धुले नहीं होते .वैसे आज कल यह लोग भी प्लास्टिक के गिलास स्तेमाल करने लगे हैं.’
‘आंटी आपने इस विषय पर अच्छी रिसर्च कर रखी है ...आगे से हम भी सचेत रहेंगे ’
‘माँ सब कुछ जानते बुझते भी कभी कभी मन कर आता है पर आगे से ध्यान रखूंगा... अब आप मुझे जल्दी से क्रोसिन दे दो .’
‘गोली लेकर तुम आराम करो हिम्मत है तो दोस्तों से बात करो .मैं जल्दी से घर के कुछ काम निबटा लेती हूँ फिर डाक्टर के पास चलेंगे .’
‘आंटी इसे आराम करने दीजिये ...हम कल मिलते हैं ...बाय श्लोक .’
पवित्रा अग्रवाल

शुक्रवार, 3 मार्च 2017

रंगों की धारा

बाल कहानी 

                         रंगों की धारा
                                                  पवित्रा अग्रवाल
    
        नेहा और तुषार को जब से पता चला था कि होली पर दीदी के साथ जीजा जी भी आ रहे हैं तब से दोनों बहुत खुश थे और बेसब्री से होली और जीजा जी का इंतजार कर रहे थे।
      उन्होंने अपने पड़ोस के घरों में अपने दोस्तों को भाभी और जीजा जी के साथ बड़ी उमंग से होली खेलते देखा था। अपने कई दोस्तों  से उन्होंने होली के कई मजेदार किस्से भी सुने थे कि कैसे उन्होंने अपनी भाभी को रंग लगाया और जीजा जी को होली पर कैसे छकाया।
      तब नेहा व तुषार के न तो भाभी थीं और न जीजा अत: इस तरह के मजेदार अनुभव भी उनके पास नहीं थे। अभी तीन महीने पूर्व ही उनकी दीदी की शादी हुई थी, इस तरह एक जीजा तो उन्हें भी मिल गए थे। नेहा और तुषार की तीव्र इच्छा थी कि होली पर दीदी के साथ जीजा जी भी उनके घर आए तो खूब मजा आएगा।
     दीदी का पत्र आया था कि होली से एक दिन पूर्व वह जीजा जी के साथ होली मनाने आ रही हैं। यह समाचार सुनते ही दोनों खुशी से उछल पड़े थे और दोनों भाई-बहन मिलकर जीजा जी से होली खेलने के नए-नए तरीके सोच रहे थे। सोचते-सोचते ही दिन बीत गए और दीदी-जीजा जी आ गए और फिर होली भी आ गई।
       होली की सुबह दीदी जल्दी जाग गई थीं और मम्मी के साथ बातों में व्यस्त हो गई थी। जीजा जी अपने कमरे में गहरी नींद में सोए थे। बस नेहा और तुषार को मौका मिल गया। तुषार दरवाजे पर पहरेदारी करने लगा इतनी देर में नेहा ने हरे-लाल रंग की सूखे रंगों की पुड़िया उठाई और जीजा जी के बालों में डाल आई। किसी को पता भी नहीं चला और वह दोनों पुन: अपने बिस्तर में जाकर सो गए।
     सुबह उठते ही उनके जीजा जी को बाल काढ़ने की आदत थी। दीदी ने जब उन्हें चाय पीने के लिए जगाया तो बाल काढ़ कर उन्होंने मुँह धोने के लिए जैसे ही चेहरे पर पानी डाला तो मुँह पर गिरे हुए सूखे रंग ने अपना कमाल दिखा दिया। अपने चेहरे व हाथों में लगा रंग देखकर वे आश्चर्य में पड़ गए और दीदी को पुकार कर कहा -- "हेमा तुम तो बहुत होशियार निकलीं। सुबह-सुबह रंग लगा दिया और हमें पता भी नहीं चला।'
    "रंग ? ... कैसा रंग ? ... फिर जीजा जी का रंग से पुता चेहरा देख कर दीदी की हँसी छूट गई। किसने लगाया ये रंग ?...मैंने तो अभी तक रंग छुआ भी नहीं है और ना ही मेरे पास रंग है।'
    "तुमने नहीं नहीं लगाया ?...तब तो जरूर नेहा व तुषार की शरारत है।'
   "लेकिन वे दोनों तो अभी तक सो रहे हैं...खैर किसी ने भी लगाया हो...लेकिन इस रूप में तुम बहुत अच्छे लग रहे हो।' दीदी ने जीजा जी को छेड़ा था।
     जीजा जी ने अपने हाथों में लगा रंग जीजी के मुँह पर मलते हुए कहा, "अब तुम भी अच्छी लग रही हो।'
       नेहा व तुषार बराबर वाले कमरे में नींद का नाटक करते हुए दीदी-जीजा जी की बातों का आनंद ले रहे थे। तभी जीजा जी बोले, "हेमा यदि तुषार और नेहा सो रहे हैं तो फिर घर में बचा कौन। जरूर ये काम मम्मी-पापा का होगा फिर तो मैं भी उन्हें रंग लगा सकता हूँ।    उन्होंने बाथरूम में जाकर हाथ गीले किए और मम्मी-पापा के मुँह पर मलते हुए बोले- "आपके होली खेलने का अंदाज हमें बहुत अच्छा लगा। आपको भी होली मुबारक।'
     जब तक मम्मी-पापा दमाद की बात समझ पाते तब तक तुषार ने एक जग पानी जीजा जी के सिर पर डाल दिया था। हरे-लाल रंगों की धाराएँ उनके बालों से बहने लगी थीं।
    तुषार व नेहा ताली बजा-बजा कर हँस रहे थे 'जीजा जी ससुराल की पहली होली मुबारक हो। होली खेलने का हमारा अंदाज पसंद आया आपको ?'
     जीजी जी उन्हें पकड़ने के लिए  भागे तब तक वह दरवाजे से बाहर निकल चुके थे।
   (मेरे दूसरे बाल कहानी संग्रह 'चिड़िया मैं बन जाऊं 'में से एक कहानी )

 ईमेल -- agarwalpavitra78@gmail.com


मेरे ब्लोग्स ---

मंगलवार, 21 फ़रवरी 2017

बरफ का गोला


बाल कहानी
                              बरफ का गोला 
                                                
                                                       पवित्रा अग्रवाल
 
         स्कूल के गेट से बाहर निकलते ही रंजीता की नजर ठेले पर बिक रहे बर्फ के रंग बिरंगे गोलों पर पड़ी ।गर्मी से बेहाल रंजीता का दिल भी उसे खाने को मचल उठा। उसने अपनी सहेली विपमा से कहा देख लड़कियाँ कैसे चुसकी ले ले कर बर्फ के गोले खा रही हैं ,चल आज अपन भी खाते हैं।'
 "ना बाबा मैं इनको नहीं खाने वाली ।मम्मी ने मुझे कभी नहीं खाने दिया पर एक बार ऐसे ही स्कूल से निकलते हुए मैं ने भी खूब चुस्की ले ले कर इसे खाया था और मैं बीमार पड़ गई थी। कई दिन मुँह से आवाज नहीं निकली थी. तब से मैं ने तोबा करली कि इसे कभी नहीं खाना है।'
 "तुम देखो रोज कितने बच्चे इसे खाते हैं और वास्तव में सबसे ज्यादा भीड़ भी इसी के ठेले पर रहती है,वह तो बीमार नहीं पड़ते । तू किसी और वजह से बीमार पड़ी होगी ।'
 "रंजीता सोचने की कई बातें हैं, इसमें से कितने बीमार पड़ते हैं हमें कैसे पता लगेगा ? गला खराब होना, खाँसी जुकाम होना तो अब आम बीमारी बन गई है। तकलीफ हुई और दवा खाली लेकिन हम में से बहुत से यह जानने की कोशिश नहीं करते कि इस के पीछे कहीं हमारे खान पान की आदतें तो नहीं हैं। जब मैं बीमार हुई तो मम्मी डाक्टर के ले गई थीं। डाक्टर ने सब से पहले यही पूछा कि तुमने आइसक्रीम, बाहर का जूस आदि पिया था क्या ?'
 "मुझसे पहले मम्मी ने कहा "हमारे बच्चे बाहर इस तरह की चीजें नहीं खाते पीते हैं' तब मुझे ध्यान आया कि मैं ने कल बर्फ का गोला खाया था।
 "फिर तूने मम्मी को बताया ?'
 "हाँ मैं ने डाक्टर साहब के सामने ही यह बात स्वीकार करली ।मम्मी को बुरा तो लगा पर वह मेरे सच बोलने पर खुश भी हुई ।'
 "बस आपकी इस तकलीफ का कारण यही बर्फ का गोला है' डाक्टर अंकल ने कहा था
 "पर वहाँ तो बहुत बच्चे इसे खाते हैं ।'
 "उनको भी कुछ हुआ या नहीं आपको कैसे पता चलेगा ।.. जो भी माता पिता अपने बच्चों को जुकाम, खॉसी, गले में दर्द  की तकलीफ ले कर यहाँ आते हैं मैं सब से पहले यही प्रश्न पूछता हूँ और अधिकतर मामलों में रोड साइड स्टालों से इस तरह की चीज खाना उनके इंफैक्शन का कारण होता है।'
 "वह लोग सफाई से नहीं बनाते इस लिए ?'
 "हाँ वह भी एक कारण हो सकता है पर तुम लोगों को इस सब से बचना चाहिए खास कर ठण्डी चीजों से जैसे बरफ के गोले, आइसक्रीम आदि में यह खतरा ज्यादा होता है ?
 मैं ने पूछा था -"ऐसा क्यों डाक्टर अंकल ?'
  "बेटा आपके घर में पानी साफ करने के लिए कोई प्यूरीफायर  है ?'
 "हाँ है और हम तो स्कूल भी अपना पानी ले कर जाते हैं।'
 " ये बर्फ का गोला बेचने वालों की बर्फ साघारण पानी की होती है ,उसमें भी वह रंग बिरंगे सिरप डाल कर उसे और हानिकारक बना देते हैं। ये सिरप अपने रंगों के कारण सब को अपनी तरफ आकर्षित तो करते हैं पर यही बीमारी की जड़ हैं। ये सब से सस्ते वाले रंगों का  प्रयोग करते हैं । किसी पर यह जल्दी ही असर दिखाते हैं किसी पर धीरे धीरे केंन्सर आदि बीमारी के रूप में गम्भीर असर दिखाते हैं ।'
 "बस रंजीता उस दिन के बाद से मैं इन ठेलों आदि से कुछ नहीं खाती ।'
 "धन्यवाद विपमा आगे से मैं भी इन बातों का घ्यान रखूँगी ।'
        
ईमेल --
agarwalpavitra78@gmail.com
--

-पवित्रा अग्रवाल
 

शुक्रवार, 6 जनवरी 2017

मम्मी ने कहा था

बाल कहानी
                   
मम्मी ने कहा था    
                                                          पवित्रा अग्रवाल


     दिसंबर की छुट्टियां   शुरू होते ही वरुण ने  ऊँचा स्टूल लगा कर अलमारी पर से कुछ पतंगें और चरक,  माँजा  नीचे उतार लिया ।
    माँ ने कहा "बेटा वरुण तुमने इतनी सारी पंतगें क्यों जमा की हुई हैं... जितनी जरूरत हो उतनी ही लाया  करो।...पड़े पड़े खराब भी होती हैं।'
 वरुण खुश हो कर बोला -- "अरे मम्मी इनमें से एक भी मेरी खरीदी हुई नहीं हैं, सब कट कर आई हुई  पतंगें हैं। '
 "तुम से मना किया था  न, फिर भी तुम पतंगें लूटते हो ? '
 "अरे माँ अपनी छत इतनी बड़ी है कि पतंगें अपने आप आ कर गिर जाती हैं।...वही पतंगें मैं जमा कर  लेता हूँ'
 " इनमें से कुछ पतंगें तो  बहुत खराब हो रही हैं पर तूने उनको भी संभाल कर क्यों रखा हुआ है ?'
 'फिर इनका क्या करूँ माँ ?'
 "पतंग के दिनों में बहुत से गरीब बच्चे अपनी जान की परवाह न करते हुए पतंग लूटने के लिए सड़कों पर भागते फिरते हैं,यह पतंगें उन को दी जा सकती थीं  ।'
 "हाँ माँ आपकी सलाह तो अच्छी है पर पतंगें देख कर उन्हें सहेज कर रखने या खुद ही उड़ाने का  लालच  आ जाता है।'

     एक दिन वरूण दोस्तों के साथ क्रिकेट खेल कर लौटा था ,उसकी नजर अपने बगीचे में गई। उसने  देखा कि  बगीचे में एक लड़का घुसा हुआ था और  उसने हाथ में एक लोहे की छड़ उठा रखी थी ,उस  से पतंग निकालने की वह कोशिश कर रहा था।
   वरूण एक दम से चिल्लाया -- "अरे यह क्या कर रहे हो ?'
 लड़के ने डर के मारे लोहे की छड़ वहीं फेंक दी और रोने लगा - ' भैया मैं चोर नहीं हूँ ।अभी एक पतंग कट कर यहाँ लटक गई थी, उसको निकालने की कोशिश कर रहा था।'
     "तुम डरो नहीं, मैं तुम्हें चोर नहीं समझ रहा पर क्या तुम्हें मालुम है कि पेड़ के पास से करेंट के तार जा रहे हैं... पतंग निकालने के चक्कर में यदि यह छड़ तारों से छू गई तो तुम अभी यहीं करेंट लगने से मर  जाओगे।दो चार रुपए की पतंग के लिए तुम अपनी जान खतरे में क्यों डाल रहे हो ? '
    'हाँ भैया गलती हो गई ...मैं ने यह तो सोचा ही नहीं था पर मैं अभी मरना नहीं चाहता। मेरे छोटे भाई को पोलियो है, आज वह पतंग के लिए जिद्द कर रहा था ...मैं ने सोचा उसके लिए पतंग ले जाऊँगा तो  वह खुश हो जाएगा ।'
 "तुम्हारे घर में कौन कौन है ?'
 "माँ है ,बापू हैं,एक छोटा भाई है । माँ दो घरों का खाना बनाती है...बापू केले की बंडी लगाते हैं।पर  उनको  शराब पीने की लत है ,वह घर में खर्च को कुछ नहीं देते और हम लोगों को बहुत मारते पीटते  हैं।'
 "तुम स्कूल जाते हो ? '
 "हाँ ,पास के सरकारी स्कूल में चौथी कक्षा में पढ़ता हूँ।पहले मैं खाली समय में एक दुकान में काम भी करता था पर जब से सरकार ने बच्चों से काम कराने पर रोक लगाई है  तब से मेरी नौकरी चली  गई है।.. फिर भी चुपके से दो घरों में कार साफ करने का काम अभी भी कर रहा हूँ।'


 "ठीक है मैं पापा से बात करता हूँ, हमारी कार गैराज में रहती हैं किसी को पता भी नहीं चलेगा कि   उसकी सफाई कौन करता है। तुम एक दो दिन बाद आना ।'
 "भैया आप तो बहुत अच्छे हो, अब मैं चलूँ.... दो दिन बाद आऊँगा ।'
  तुम्हारा नाम क्या है ?'
 "शंकर '
 वरुण को अचानक मम्मी की एक बात याद आ गई। उसने कहा"--" शंकर तुम दो मिनट यहीं रूको ,मैं अभी आता हूँ।'
वरूण ने अन्दर से पाँच छह पतंगे और डोर लाकर उसे देते हुए कहा --" लो यह अपने भाई को दे  देना  पर उस से कहना वह इन्हें सड़क पर नहीं, किसी सुरक्षित जगह से उड़ाए ।'
 पतंगें पाकर शंकर के चेहरे पर खुशी की लहर दौड़ गई।
 खिड़की में से मम्मी यह सब देख कर बहुत खुश हो रही थीं।

 
         ईमेल-- agarwalpavitra78@gmail.com
http://bal-kishore.blogspot.com/