सोमवार, 6 फ़रवरी 2012

चोर भाग गए

बाल कहानी                                              


                               चोर भाग गए


                                                            पवित्रा अग्रवाल      
         
          सोहा अपने माँ-बाप की अकेली बेटी है। इस समय वह बारह वर्ष की है और कक्षा आठ में पढ़ती है। मम्मी-पापा दोनों सर्विस करते हैं। इस वजह से सोहा को घर में बहुत देर अकेले ही रहना पड़ता है। कई बार तो वह रात को बारह बजे तक घर में अकेली रही है। पहले उसे डर लगता था किंतु अब उसे आदत पड़ गई है और समय ने उसे साहसी भी बना दिया है।
          मम्मी-पापा शाम को छह बजे ऑफिस से लौटे थे। मम्मी ने आते ही कहा- "सोहा, आज शहर में एक अखिल भारतीय कवि सम्मेलन हो रहा है। मेरी सहेली ने पास भिजवा दिए हैं। हम दोनों वहाँ जाना चाहते हैं, चाहो तो तुम भी चलो।'
        "नहीं मम्मी, आप जाइए, मैं घर में रह लूँगी।'
        "देख लो बेटा, रात को हमें लौटने में दो-तीन बज सकते हैं। तुम कहो तो तुम्हें चाचाजी के घर छोड़ देते हैं। सुबह तुम्हें पापा ले आएँगे।'
        "अरे मम्मी रात को बारह बजे तक तो मैं कई बार अकेली रही हूँ। दो-तीन घंटे ज्यादा सही।...आप आराम से जाइए। मैं पड़ोस से अपनी सहेली रितु को बुला लेती हूँ। हम दोनों बातें करते, टी.वी. देखते हुए सो जाएँगे। आप बाहर से ताला लगा जाइए।'
          मम्मी ने खाना बनाया। सबने साथ-साथ खाना खाया। रितु को भी बुला लिया फिर कई हिदायतें देते हुए मम्मी-पापा कवि सम्मेलन में चले गए।
         रात को दरवाजे पर खटपट की आवाज सुन कर सोहा की नींद खुल गई। उसने दरवाजे की दिशा में कान लगाए तो वह समझ गई कि कोई बाहर से ताला खोलने की कोशिश कर रहा है...और वह निश्चय ही चोर है। बाहर ताला लगा देख कर उन्होंने सोचा होगा कि घर में कोई नहीं है। एक बार को तो सोहा डर गई। उनके यहाँ फोन थोड़े दिन में लगने वाला है। यदि फोन होता तो वह पुलिस को या किसी परिचित को फोन कर देती। अब क्या करे। उसने झट से दरवाजे की अंदर से साँकल लगा दी।...अब उसे कोई डर नहीं था...फिर भी उसके दिमाग में एक बात आई कि मम्मी-पापा के आने का समय हो रहा है। यदि अभी वह लोग आ गए तो निहत्थे मम्मी-पापा को चोर नुकसान पहुँचा सकते हैं, उन पर हमला कर सकते हैं।
          उसने रितु को उठा कर बताया कि लगता है दरवाजे पर कोई है ...लेकिन तू बिल्कुल मत डर, मैंने अंदर से साँकल लगा ली है। अत: ताला तोड़ने के बाद भी वह अंदर नहीं आ सकते लेकिन रितु डर से काँपने लगी थी।
        तभी सोहा को एक तरकीब सूझी। उसने दरवाजे के पास जा कर तेज आवाज में कहा -- "चिन्टू भैया खटपट मत करो , आपने आने में बहुत देर कर दी है ... मम्मी-पापा, ताऊजी-ताईजी सब सो चुके हैं, जाग जाएँगे। बाहर की चाभी तो आपके पास है न, दरवाजा खोल कर अंदर आ जाइए।...कहीं चाभी आपने खो तो नहीं दी ?...आप बोलते क्यों नहीं ?...ठहरिए मैं अभी पापा को बुलाती हूँ।'
       तभी उसने बाहर किसी को बोलते सुना, "अरे घर में तो लगता है बहुत सारे लोग हैं। जल्दी भाग लो नहीं तो अभी पकड़े जाएँगे।'
     " तभी उसने दूसरे कमरे का पर्दा उठा कर देखा। दो - तीन आदमी बाउंड्री से बाहर कूद रहे थे। उसने चैन की साँस ली और डर से काँपती रितु को सँभालते हुए कहा-- "डर मत, वो तो भाग गए।'
     "भाग गये ?...अरे वाह सोहा,तूने तो कमाल कर दिया ...क्या होशियारी से चोरों को भगाया है।'





                                                                                                
                                                                                                                घरोंदा 
                                                                                                    4-7-126  इसामियां बाजार 
                                                                                                    हैदराबाद  - 500027



 http://bal-kishore.blogspot.com/
  http://laghu-katha.blogspot.com/
                                  
                                                                       ------